Mansa Musa Biography in Hindi | मनसा मूसा जीवनी

Spread the love

मनसा मूसा Mansa Musa History - TS Historical
Mansa Musa

जन्म C – 1280 माली साम्राज्य

मृत्यु C – 1337 (आयु 56-57), अज्ञात

शासन; C – 1312-C1337 (C.25 वर्ष)

माता-पिता – Faga Laye

बच्चे: – माघन.मैं, मघिसिबलिंग: सुलेमान

मनसा मूसा कौन था ? Mansa musa History

Mansa Musa kon tha – मनसा मूसा दुनिया का सबसे अमीर आदमी था। ये इतना अमीर था की इसके पैसो से मार्क ज़ुकेरबर्ग , बिल गेट्स और अम्बानी जैसे कई लोगो को अराम से ख़रीदा जा सकता है मनसा मूसा अफ्रीका में पाई जाने वाली माली सल्तनत के हुक्मरान थे,उनका असली नाम मूसा था जिसका मतलब होता है बादशाहो का बादशाह, मनसा उनका लक़ब यानी आबादी थी जो उनको बादशाह बनने के बाद दी गई थी।

मंसा मूसा के इतना अमीर और ताकतवर होने का सबसे बड़ा राज नमक और सुना था मंसा मूसा के दौर में गोल्ड की डिमांड बढ़ती जा रही थी और गोल्ड कम होने की वजह से दिन पर दिन महंगा होता जा रहा था, तो वहीं दूसरी तरफ मनसा मूसा की माली सल्तनत में हर साल सैकड़ों टन से सोना निकला करता था | जिसके कारण मनसा मूसा दिन पर दिन अमीर होता जा रहा था

मनसा मुसा की हज यात्रा | Mansa musa ka hajj ka safar

मनसा मूसा ने 1326 में हज का इरादा किया | मनसा मूसा का हज का सफर पूरी दुनिया में मशहूर हो गया | क्योंकि सफर में मंसा मूसा ने इतना सोना लूट आया था कि उसके ज्यादा सोना लुटाने की वजह से वहां के शहरों में सोना ज्यादा होने की वजह से सोने की कीमतों में गिरावट आ गई | मंसा मूसा जिस भी इलाके से निकलता था उस इलाके में सोना लुटाता जाता था |

मंसा मूसा ने सबसे ज्यादा सोना मिस्र के काहिरा में लुटाया हिस्ट्री में से अभी तक का सबसे महंगा हज का सफर माना जाता है मंसा मूसा ने हज के सफ़र से वापस आने के बाद बहुत से स्कूल हॉस्पिटल और मस्जिद भी बनवाई वह सभी चीजें इतनी खूबसूरत बनाई गई थी कि उसे देखने के लिए लोग दूर-दूर से आया करते थे अंग्रेजों को जब मनसा मूसा के बारे में पता चला तो उन्होंने फौरन मंसा मूसा के बारे में लिखना शुरू कर दिया क्योंकि उस दौर में यूरोप कुछ भी नहीं था।

मंसा मूसा के दौर में उसकी सल्तनत दुनिया की सबसे अमीर सल्तनत मानी जाती थी मनसा मूसा जब भी किसी सफर में निकलता था तो अपने पीछे बहुत से घोड़े और ऊंट लेकर चलता था जिनके ऊपर सोना हीरे जवाहरात होते थे जो वह गरीबों में लुटाता जाता था मनसा मूसा के पास इतनी दौलत थी कि उसे गिनना लगभग नामुमकिन था मनसा मूसा ने अपनी दौलत रखने के लिए बहुत से तेखाने भी बनवाए एक आंकड़े के मुताबिक मनसा मूसा के पास लगभग 600 बिलीयन डॉलर थे।

सोंघई राज्य पर विजय प्राप्त की है। Songhai empire vs Mali empire

songhai emprire vs mali empire

कहा जाता है कि मंसा मूसा, जिनका साम्राज्य उस समय दुनिया में सबसे महान साम्राज्यों में से एक था, ने टिप्पणी की थी कि अपने क्षेत्र के एक छोर से दूसरे छोर तक यात्रा करने में एक वर्ष लगेगा। हालांकि यह सबसे अधिक संभावना एक अतिशयोक्ति है, यह ज्ञात है कि उनके जनरलों में से एक, सगमांडिया (सागमन-दिर) ने मक्का की अपनी यात्रा के दौरान गाओ की सोंगई राजधानी पर कब्जा करके साम्राज्य का विस्तार किया। 

सोंगई साम्राज्य सैकड़ों मील की दूरी पर था, इस प्रकार इसे जीतने का मतलब एक विशाल क्षेत्र पर नियंत्रण हासिल करना था। 14वीं सदी के यात्री इब्न बाह के अनुसार, माली साम्राज्य की उत्तरी सीमा से दक्षिण में नियानी तक की यात्रा में लगभग चार महीने लगे।

सम्राट अपने नए अधिग्रहण से इतना खुश था कि उसने अपनी वापसी को नियानी में स्थगित करने का फैसला किया और इसके बजाय गाओ की यात्रा की, जहां वह सोंगई राजा के व्यक्तिगत आत्मसमर्पण को प्राप्त करेगा और राजा के दो बेटों का अपहरण करेगा। मनसा सुश्री ने अब इस्क अल-सिल, एक ग्रेनाडा कवि और बिल्डर को नियुक्त किया, जो मक्का से उनके साथ आए थे,

गाओ और टिम्बकटू दोनों में मस्जिदों का निर्माण करने के लिए, एक सोंघई महानगर व्यावहारिक रूप से गाओ के महत्व के बराबर है। गाओ मस्जिद के निर्माण के लिए पकी हुई ईंटों का इस्तेमाल किया गया था, जिसे पहले कभी पश्चिम अफ्रीका में निर्माण सामग्री के रूप में इस्तेमाल नहीं किया गया था।

टिम्बकटू मनसा मूसा के अधीन मिस्र और उत्तरी अफ्रीका के अन्य सभी महत्वपूर्ण व्यापार केंद्रों के साथ कारवां कनेक्शन के साथ एक बहुत ही महत्वपूर्ण व्यावसायिक शहर बन गया। व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देने के साथ-साथ सीखने और कलाओं को शाही प्रायोजन प्राप्त हुआ। मुख्य रूप से इतिहास, कुर्निक धर्मशास्त्र और कानून में रुचि रखने वाले विद्वानों ने टिम्बकटू में सांकोर मस्जिद को एक शिक्षण केंद्र में बदलने और सांकोर विश्वविद्यालय की स्थापना करने की योजना बनाई। मनसा मूसा की 1332 में मृत्यु हो गई।

विरासत

मनसा मूसा की श्रेष्ठ प्रशासनिक क्षमताओं को एक विशुद्ध अफ्रीकी साम्राज्य के संगठन और सुचारू प्रशासन में देखा जा सकता है, सांकोर विश्वविद्यालय की स्थापना, टिम्बकटू में व्यापार का विस्तार, गाओ, टिम्बकटू और नियानी में स्थापत्य नवाचार, और, वास्तव में , पूरे माली और उसके बाद के सोंगई साम्राज्य में। इसके अलावा, उन्होंने अपने छात्रों में जो नैतिक और धार्मिक विश्वास पैदा किया, वह उनकी मृत्यु के बाद भी लंबे समय तक बना रहा।


Spread the love